Ab Jago Mohan Pyare

प्रभाती
अब जागो मोहन प्यारे
मात जसोदा दूध भात लिये, बैठी प्रात पुकारे
उठो मेरे मोहन आ मेरे श्याम, माखन मिसरी खारे
वन विचरन को गौएँ ठाड़ीं, ग्वाल बाल मिल सारे
तुम रे बिन एक पग नहिं चाले, राह कटत सब हारे
ना तुम सोये ना मैं जगाऊँ, लोग भरम भये प्यारे
दासी ‘मीराँ’ झुक झुक देखत, श्याम सूरति मतवारे

Jaao Hari Nirmohiya Re

स्वार्थ की प्रीति
जाओ हरि निरमोहिया रे, जाणी थाँरी प्रीत
लगन लगी जब और प्रीत थी, अब कुछ उलटी रीत
अमृत पाय जहर क्यूँ दीजे, कौण गाँव की रीत
‘मीराँ’ कहे प्रभु गिरधर नागर, आप गरज के मीत

Nand Nandan Aage Nachungi

गाढ़ी प्रीति
नँद-नंदन आगे नाचूँगी
नाच नाच पिय तुमहिं रिझाऊँ, प्रेमीजन को जाँचूँगी
प्रेम प्रीत का बाँध घूँघरा, मोहन के ढिंग छाजूगीं
लोक-लाज कुल की मरजादा, या मैं एक न राखूँगी
पिय के पलँगाँ जा पौढूँगी, ‘मीराँ’ हरि रँग राँचूँगी

Bansiwala Sanwariya Aaja Re

निमंत्रण
बंसीवाला साँवरिया आजा रे
बिन देखे नहीं चैन पड़त है, चाँद सा मुखड़ा दिखाजा रे
मोर मुकुट पीतांबर सोहे, मुरली की टेर सुनाजा रे
दधि माखन घर में बहु मेरे, जो चाहे सोइ खाजा रे
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, मोहनी मूरत दिखाजा रे

Mere To Giridhar Gopal

गिरिधर गोपाल
मेरे तो गिरिधर गोपाल दूसरो न कोई
जाके सिर मोर –मुकुट, मेरो पति सोई
छाँड़ि दई कुल की कानि, कहा करि है कोई
संतन ढिग बैठि-बैठि, लोक लाज खोई
अँसुवन जल सींचि-सींचि, प्रेम-बेली बोई
अब तो बेल फैल गई, आनँद फल होई
दही की मथनिया, बड़े प्रेम से बिलोई
माखन सब काढ़ि लियो, छाछ पिये कोई
भगत देखि राजी भई, जगत देखि रोई
दासी ‘मीराँ’ लाल गिरिधर, तारो अब मोही

Rana Jimhe To Govind Ka Gun Gasyan

भक्ति भाव
राणाजी! म्हे तो गोविन्द का गुण गास्याँ
चरणामृत को नेम हमारे, नित उठ दरसण जास्याँ
हरि मंदिर में निरत करास्याँ, घूँघरिया धमकास्याँ
राम नाम का झाँझ चलास्याँ, भव सागर तर जास्याँ
यह संसार बाड़ का काँटा, सो संगत नहिं करस्याँ
‘मीराँ’ कहे प्रभु गिरिधर नागर, निरख परख गुण गास्याँ

Hari Mere Jivan Pran Adhar

प्राणाधार
हरि मेरे जीवन प्राण अधार
और आसरो है नहीं तुम बिन, तीनूँ लोक मँझार
आप बिना मोहि कछु न सुहावै, निरख्यौ सब संसार
‘मीराँ’ कहे मैं दासि रावरी, दीज्यौ मती बिसार

Ab To Nibhayan Saregi Rakh Lo Mhari Laj

शरणागति
अब तो निभायाँ सरेगी, रख लो म्हारी लाज
प्रभुजी! समरथ शरण तिहारी, सकल सुधारो काज
भवसागर संसार प्रबल है, जामे तुम ही जहाज
निरालम्ब आधार जगत्-गुरु, तुम बिन होय अकाज
जुग जुग भीर हरी भक्तन की, तुम पर उनको नाज
‘मीराँ’ सरण गही चरणन की, पत राखो महाराज

Jaago Bansi Ware Lalna

प्रभाती
जागो बंसीवारे ललना, जागो मोहन प्यारे
रजनी बीती भोर भयो है, घर घर खुले किवारे
गोपी दही मथत सुनियत है, कँगना के झनकारे
उठो लालजी भोर भयो है, सुर नर ठाड़े द्वारे
ग्वाल बाल सब करत कुलाहल, जय जय सबद उचारे
माखन रोटी करो कलेवा, गउवन के रखवारे
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, शरणागत कूँ तारे

Namo Namo Tulsi Maharani

तुलसी की महिमा
नमो नमो तुलसी महारानी, नमो नमो हरि की पटरानी
जाको दरस परस अघ नासे, महिमा वेद पुराण बखानी
साखा पत्र मंजरी कोमल, श्री पति चरण-कमल लपटानी
धन्य आप ऐसो व्रत कीन्हो, सालिगराम के शीश चढ़ानी
छप्पन भोग धरे हरि आगे, तुलसी बिन प्रभु एक न मानी
प्रेम प्रीत कर हरि वश कीन्हे, साँवरी सूरत ह्रदय समानी
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, भक्ति दान दीजै महारानी