Ese Ramdin Hitkari

हितकारी राम
ऐसे राम दीन हितकारी
अति कोमल करुना निधान बिनु कारन पर-उपकारी
साधन हीन दीन निज अघ बस सिला भई मुनि नारी
गृहते गवनि परसि पद-पावन घोर सापते तारी
अधम जाति शबरी नारी जड़ लोक वेद ते न्यारी
जानि प्रीत दै दरस कृपानिधि सोउ रघुनाथ उबारी
रिपु को अनुज विभिषन निशिचर, कौन भजन अधिकारी
सरन गये आगे ह्वै लीन्हा, भेंट्यो भुजा पसारी
कह लगि कहौं दीन अनगिनत, जिनकी विपति निवारी
कलि-मल-ग्रसित दास ‘तुलसी’ पर काहे कृपा बिसारी

Jankinath Sahay Kare Tab

रामाश्रय
जानकीनाथ सहाय करे, तब कौन बिगाड़ सके नर तेरो
सूरज, मंगल, सोम, भृगुसुत, बुध और गुरु वरदायक तेरो
राहु केतु की नाहिं गम्यता, तुला शनीचर होय है चेरो
दुष्ट दुशासन निबल द्रौपदी, चीर उतारण मंत्र विचारो
जाकी सहाय करी यदुनन्दन, बढ़ गयो चीरको भाग घनेरो
गर्भकाल परीक्षित राख्यो, अश्वत्थामा को अस्त्र निवार्यो
भारत में भूरही के अंडा, तापर गज को घंटो गेर्यो
जिनकी सहाय करे करूणानिधि, उनको जग में भाग्य घनेरो
रघुवंशी संतन सुखदायी, ‘तुलिदास’ चरनन को चेरो

Main Hari Patit Pawan Sune

पतित-पावन
मैं हरि पतित-पावन सुने
मैं पतित तुम पतित पावन दोइ बानक बने
व्याध, गनिका, गज, अजामिल, साखि निगमनि भने
और अधम अनेक तारे, जात कापै गने
जानि नाम अजानि लीन्हें, नरक सुरपुर मने
दास तुलसी सरन आयो, राखिये आपने

Aaj Jo Harihi N Shastra Gahau

भीष्म प्रतिज्ञा
आज जो हरिहिं न शस्त्र गहाऊँ
तौं लाजौं गंगा-जननी को, सांतनु-सुत न कहाऊँ
स्यंदन खंडि महारथ खंडौं, कपिध्वज सहित डुलाऊँ
इती न करो सपथ मोहिं हरि की, क्षत्रिय-गतिहि न पाऊँ
पांडव-दल सन्मुख हौं धाऊँ, सरिता रुधिर बहाऊँ
‘सूरदास’ रण-भूमि विजय बिनु, जियत न पीठ दिखाऊँ

Kahiyo Syam So Samjhai

श्याम की याद
कहियौ स्याम सौ समझाइ
वह नातौ नहि मानत मोहन, मनौ तुम्हारी धाइ
बारहिं बार एकलौ लागी, गहे पथिक के पाँइ
‘सूरदास’ या जननी को जिय, राखै बदन दिखाइ

Jag Me Jiwat Hi Ko Nato

मोह माया
जग में जीवत ही को नातो
मन बिछुरे तन छार होइगो, कोउ न बात पुछातो
मैं मेरो कबहूँ नहिं कीजै, कीजै पंच-सुहातो
विषयासक्त रहत निसि –वासर, सुख सियारो दुःख तातो
साँच झूँट करि माया जोरी, आपन रूखौ खातो
‘सूरदास’ कछु थिर नहिं रहई, जो आयो सो जातो

Jo Lo Man Kamna N Chute

कामना का त्यचक्ष
जो लौं मन कामना न छूटै
तो कहा जोग जज्ञ व्रत कीन्हैं, बिनु कन तुस को कूटै
कहा असनान किये तीरथ के, राग द्वेष मन लूटै
करनी और कहै कछु औरे, मन दसहूँ दिसी टूटै
काम, क्रोध, मद, लोभ शत्रु हैं, जो इतननि सों छूटै
‘सूरदास’ तब ही तम नासै, ज्ञान – अगिनि झर फूटै

Dou Bhaiya Jewat Ma Aage

भोजन
दोउ भैया जैंवत माँ आगै
पुनि-पुनि लै दधि खात कन्हाई, और जननि पे माँगे
अति मीठो दधि आज जमायौ, बलदाऊ तुम लेहु
देखौ धौं दधि-स्वाद आपु लै, ता पाछे मोहि देहु
बल-मोहन दोऊ जेंवत रूचि सौं, सुख लूटति नँदरानी
‘सूर’ श्याम अब कहत अघाने, अँचवन माँगत पानी

Prabhu Tero Vachanbharoso Sancho

भक्त-वत्सलता
प्रभु तेरो वचन भरोसो साँचो
पोषन भरन विसंभर स्वामी, जो कलपै सो काँचौ
जब गजराज ग्राह सौं अटक्यौ, बली बहुत दुख पायौ
नाम लेट ताही छन हरिजू, गरुड़हि छाँड़ि छुड़ायौ
दुःशासन जब गही द्रौपदी, तब तिहिं वसन बढ़ायौ
‘सूरदास’ प्रभु भक्त बछल हैं, चरन सरन हौं आयौ

Madhukar Shyam Hamre Chor

चित-चोर
मधुकर श्याम हमारे चोर
मन हर लियो माधुरी मूरत, निरख नयन की कोर
पकरे हुते आन उर अंतर, प्रेम प्रीति के जोर
गये छुड़ाय तोर सब बंधन, दै गये हँसन अकोर
उचक परों जागत निसि बीते, तारे गिनत भई भोर
‘सूरदास’ प्रभु हत मन मेरो, सरबस लै गयो नंदकिशोर