Ram Ka Gungan Kariye

श्री राम महिमा
राम का गुणगान करिए
राम के गुण का हो चिंतन, राम-गुण का स्मरण कीर्तन,
मनुजता को हृदय में धर, आप जीवन सफल करिए,
मनन करिए, ध्यान धरिए, राम का….
सगुण ब्रह्म स्वरूप सुंदर, सृजन, पालन चरित सुखकर,
परम-आत्मा, जगत्-आत्मा, राम को प्रणाम करिये,
मनन करिए ध्यान धरिए, राम का…. 

Aarti Saraswati Ki Kariye

सरस्वती आरती
आरति सरस्वती की करिये, दिव्य स्वरूप सदा मन भाये
हरि, हर, ब्रह्मा तुमको ध्यायें, महिमा अमित देव ॠषि गायें
श्वेत पद्म अगणित राका सी, अंग कांति मुनिजन को मोहे
हंस वाहिनी ब्रह्म स्वरूपा, वीणा, पुस्तक कर में सोहे
श्रेष्ठ-रत्न-आभूषण धारी, स्मृति बुद्धि शक्ति स्वरूपा
शेष, व्यास, ऋषि वाल्मीकि पूजित, पतित पावनी सरिता रूपा
सनातनी, वाणी, ब्रह्माणी, जय जय बारम्बार तुम्हारी
सुरेश्वरी हे ज्ञानस्वरूपा, मैया! जड़ता हरो हमारी