Ab To Nibhayan Saregi Rakh Lo Mhari Laj

शरणागति
अब तो निभायाँ सरेगी, रख लो म्हारी लाज
प्रभुजी! समरथ शरण तिहारी, सकल सुधारो काज
भवसागर संसार प्रबल है, जामे तुम ही जहाज
निरालम्ब आधार जगत्-गुरु, तुम बिन होय अकाज
जुग जुग भीर हरी भक्तन की, तुम पर उनको नाज
‘मीराँ’ सरण गही चरणन की, पत राखो महाराज

Mhari Sudh Kripa Kar Lijo

शरणागति
म्हारी सुध किरपा कर लीजो
पल पल ऊभी पंथ निहारूँ, दरसण म्हाने दीजो
मैं तो हूँ बहु ओगुणवाली, औगुण सब हर लीजो
मैं दासी थारे चरण-कँवल की, मिल बिछड़न मत कीजो
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, हरि चरणाँ में लीजो

Sanwara Mhari Prit Nibhajyo Ji

शरणागति
साँवरा म्हारी प्रीत निभाज्यो जी
थें छो सगला गुण रा सागर, म्हारा औगुण थे बिसराज्यो जी
लोक न धीजै, मन न पतीजै, मुखड़े शब्द सुणाज्यो जी
दासी थारी जनम-जनम री, म्हारै आँगण आज्यो जी
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, बेड़ो पार लगाज्यो जी