Antarman Se Karu Archana

गायत्री स्तवन
अन्तर्मन से करूँ, अर्चना हे गायत्री माता
जपे आपका महामंत्र, वह सभी सिद्धियाँ पाता
अनुपम रूप आपका माता, वर्णन हो नहीं पाता
महिमा अपरम्पार आपकी, भक्तों की हो त्राता
दिव्य तेज की एक किरण से, मन प्रकाश भर जाता

Leave a Reply

Your email address will not be published.