Braj Ke Birahi Log Dukhare

वियोग
ब्रज के बिरही लोग दुखारे
बिन गोपाल ठगे से ठाढ़े, अति दुरबल तनु कारे
नन्द जसोदा मारग जोवत, नित उठि साँझ सकारे
चहुँ दिसि ‘कान्ह कान्ह’ करि टेरत, अँसुवन बहत पनारे
गोपी गाय ग्वाल गोसुत सब, अति ही दीन बिचारे
‘सूरदास’ प्रभु बिन यों सोभित, चन्द्र बिना ज्यों तारे

Leave a Reply

Your email address will not be published.