Daras Bina Dukhan Lage Nain

विरह व्यथा
दरस बिन दूखँण लागै नैन
जब से तुम बिछुड़े मेरे प्रभुजी, कबहुँ न पायो चैन
सबद सुनत मेरी छतियाँ काँपें, कड़वे लागै बैन
विरह कथा कासूँ कहुँ सजनी, बह गई करवत ऐन
कल न परत, हरि को मग जोवत, भई छमासी रैन
‘मीरा’ के प्रभु कबरे मिलोगे, दुख मेटण सुख दैन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *