Hamare Nirdhan Ke Dhan Ram

प्रबोधन
हमारे निर्धन के धन राम
चोर न लेत घटत नहिं कबहूँ, आवत गाढ़ैं काम
जल नहिं बूड़त, अगिनि न दाहत, है ऐसो हरि नाम
वैकुण्ठनाथ सकल सुख दाता, ‘सूरदास’ सुख-धाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *