Jogiya Kab Re Miloge Aai

मिलने की आतुरता
जोगिया, कब रे मिलोगे आई
तेरे कारण जोग लियो है, घर-घर अलख जगाई
दिवस न भूख, रैन नहिं निंदियाँ, तुम बिन कछु न सुहाई
‘मीराँ’ के प्रभु गिरिधर नागर, मिल कर तपन बुझाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *