Nam Japan Kyon Chod Diya

नाम-जप
नाम जपन क्यों छोड़ दिया
क्रोध न छोड़ा, झूँठ न छोड़ा, सत्य वचन क्यों छोड़ दिया
झूठे जग में जी ललचा कर, असल देश क्यों छोड़ दिया
कौड़ी को तो खूब सम्भाला, लाल-रतन क्यों छोड़ दिया
जिहि सुमिरन ते अति सुख पावे, सो सुमिरन क्यों छोड़ दिया
रे नर इक भगवान भरोसे, तन-मन-धन क्यों न छोड़ दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *