Nayan Main Daro Mati Gulal

होली
नयन में डारो मती गुलाल, तिहारे पाँय परत नन्दलाल
अंतर होत पिया दरसन में, बिन दरसन बेहाल
कनक बेलि वृषभानु-नन्दिनी, प्रीतम स्याम तमाल
ऋतु बसंत वृंदावन फूल्यो, नाचत गोपी ग्वाल
वेणु बजावे मधुरे गावे, नाना विधि दे ताल
‘रामदास’ प्रभु गिरिधर नागर, पिक रंग सोहे गाल 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *