Piya Itani Vinati Suno Mori

शरणागति
पिया इतनी विनती सुनो मोरी
औरन सूँ रस-बतियाँ करत हो, हम से रहे चित चोरी
तुम बिन मेरे और न कोई, मैं सरणागत तोरी
आवण कह गए अजहूँ न आये, दिवस रहे अब थोरी
‘मीराँ’ के प्रभु कब रे मिलोगे, अरज करूँ कर जोरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *