Prabhu Ji Tumko Arpit Yah Jiwan

मेरी भावना
प्रभुजी! तुमको अर्पित यह जीवन
जीवन बीते सत्कर्मों में, श्रद्धा हो प्रभु की पूजा में
करो हृदय में ध्यान सदा, लगूँ नहीं कभी दुष्कर्मों में
इच्छा न जगे कोई मन में, प्रभु प्रेम-भाव से तृप्त रहूँ
सुख दुख आये जो जीवन में, प्रभु का प्रसाद में जान गहूँ
जो मात-पिता वे जीवन-धन, उनकी सेवा तन मन से हो
हर लो माया सद मोह सकल, प्रभु भक्ति-भाव मय जीवन हो  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *