Prabhuji Main Picho Kiyo Tumharo

चरणाश्रय
प्रभुजी मैं पीछौ कियौ तुम्हारौ
तुम तो दीनदयाल कहावत, सकल आपदा टारौ
महा कुबुद्धि, कुटिल, अपराधी, औगुन भर लिये भारौ
‘सूर’ क्रूर की यही बीनती, ले चरननि में डारौ

Leave a Reply

Your email address will not be published.