Tum Prem Ke Ho Ghanshyam

प्रेमवश प्रभु
तुम प्रेम के हो घनश्याम
गोपीजन के ऋणी बने तुम, राधा वल्लभ श्याम
शबरी के जूँठे फल खाये, सीतापति श्रीराम
लंका राज विभीषण पायो, राम भक्ति परिणाम
बंधन मुक्त करे निज जन को, जसुमति बाँधे दाम
गाढ़ी प्रीत करी ग्वालन संग, यद्यपि पूरम-काम
व्यंजन त्याग साग को भोजन, कियो विदुर के ठाम
राजसूय में जूँठ उठाई, प्रीति बढ़ाई श्याम
तंदुल लेकर दियो सुदामा, कंचन माणिक धाम
भज मन प्रेमनिधे उन प्रभु को, निशि दिन आठो याम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *