Satyam Shivam Sundaram

सत्यं शिवं सुन्दरम्
सत्यं शिवं सुन्दरम् ही तो श्री हरि का रूप है
सुख शांति का यह सार है, अकल्पनीय अनूप है
जीवन मे सत्य विचार हो, व्यवहार वाणी शुद्ध हो
उत्तम यही तो मार्ग है अन्तःकरण भी शुद्ध हो
शिव-भाव से तात्पर्य है, कल्याणमय जीवन रहे
सारे अमंगल दूर हों, मालिन्य को न जरा गहे
कण कण में प्रभु ही व्याप्त है, सौन्दर्य की सीमा नहीं
सुन्दर ही सारी सृष्टि है, सब शास्त्र वेद कहें यही
हम सत्य का अर्चन करें, उत्कृष्ट ये ही धर्म है
सुख शांति हेतु प्रयास ही, सबसे बड़ा सत्कर्म है

Leave a Reply

Your email address will not be published.