Deh Dhare Ko Karan Soi

अभिन्नता
देह धरे कौ कारन सोई
लोक-लाज कुल-कानि न तजिये, जातौ भलो कहै सब कोई
मात पित के डर कौं मानै, सजन कहै कुटुँब सब सोई
तात मात मोहू कौं भावत, तन धरि कै माया बस होई
सुनी वृषभानुसुता! मेरी बानी, प्रीति पुरातन राखौ गोई
‘सूर’ श्याम नागारिहि सुनावत, मैं तुम एक नाहिं हैं दोई

Leave a Reply

Your email address will not be published.