Jagahu Brajraj Lal Mor Mukut Ware

प्रभाती
जागहु ब्रजराज लाल मोर मुकुट वारे
पक्षी गण करहि शोर, अरुण वरुण भानु भोर
नवल कमल फूल, रहे भौंरा गुंजारे
भक्तन के सुने बैन, जागे करुणा अयन
पूजि के मन कामधेनु, पृथ्वी पगु धारे
करके फिर स्नान ध्यान, पूजन पूरण विधान
बिप्रन को दियो दान, नंद के दुलारे
करके भोजन गुपाल गैयन सँग भये ग्वाल
बंशीवट तीर गये, भानुजा किनारे
मुरलीधर लकुटि हाथ, विहरत गोपिन के साथ
नटवर को वेष कियो, यशुमति के प्यारे
आई में शरण नाथ, बिनवति धरि चरण माथ
‘रूपकुँवरि’ दरस हेतु द्वार पे तिहारे

Leave a Reply

Your email address will not be published.