Udho Kahan Sikhvo Yog

मोहन से योग
ऊधौ! कहा सिखावौ जोग
हमरो नित्य-जोग प्रियतम सौं, होय न पलक बियोग
वे ही हमरे मन मति सर्वस, वे ही जीवन प्रान
वे ही अंग-अंग में छाये, हमको इसका भान

Leave a Reply

Your email address will not be published.