Kali Nam Kam Taru Ram Ko

राम स्मरण
कलि नाम कामतरु राम को
दलनिहार दारिद दुकाल दुख, दोष घोर धन धाम को
नाम लेत दाहिनों होत मन वाम विधाता वाम को
कहत मुनीस महेस महातम, उलटे सूधे नाम को
भलो लोक – परलोक तासु जाके बल ललित – ललाम को
‘तुलसी’ जग जानियत नामते, सोच न कूच मुकाम को

Bharat Bhai Kapi Se Urin Ham Nahi

कृतज्ञता
भरत भाई कपि से उऋण हम नाहीं
सौ योजन मर्याद सिन्धु की, लाँघि गयो क्षण माँही
लंका-जारि सिया सुधि लायो, गर्व नहीं मन माँही
शक्तिबाण लग्यो लछमन के, शोर भयो दल माँही
द्रोणगिरि पर्वत ले आयो, भोर होन नहीं पाई
अहिरावण की भुजा उखारी, पैठि गयो मठ माँही
जो भैया, हनुमत नहीं होते, को लावत जग माँही
आज्ञा भंग कबहुँ नहीं कीन्हीं, जहँ पठयऊँ तहँ जाई
‘तुलसिदास’, मारुतसुत महिमा, निज मुख करत बड़ाई

Aaj Sakhi Raghav Ki Sudhi Aai

स्मृति
आज सखि! राघव की सुधि आई
आगे आगे राम चलत है, पीछे लक्ष्मण भाई
इनके बीच में चलत जानकी, चिन्ता अधिक सताई
सावन गरजे भादों बरसे,पवन चलत पुरवाई
कौन वृक्ष तल भीजत होंगे, राम लखन दोउ भाई
राम बिना मोरी सूनी अयोध्या, लक्ष्मण बिन ठकुराई
सीता बिन मोरी सूनी रसोई, महल उदासी छाई

Ram Ka Gungan Kariye

श्री राम महिमा
राम का गुणगान करिए
राम के गुण का हो चिंतन, राम-गुण का स्मरण कीर्तन,
मनुजता को हृदय में धर, आप जीवन सफल करिए,
मनन करिए, ध्यान धरिए, राम का….
सगुण ब्रह्म स्वरूप सुंदर, सृजन, पालन चरित सुखकर,
परम-आत्मा, जगत्-आत्मा, राम को प्रणाम करिये,
मनन करिए ध्यान धरिए, राम का…. 

Kahan Ke Pathik Kahan Kinh Hai Gavanwa

परिचय
कहाँ के पथिक कहाँ, कीन्ह है गवनवा
कौन ग्राम के, धाम के वासी, के कारण तुम तज्यो है भवनवा
उत्तर देस एक नगरी अयोध्या, राजा दशरथ जहाँ वहाँ है भुवानवा
उनही के हम दोनों कुँवरावा , मात वचन सुनि तज्यो है भवनवा
कौन सो प्रीतम कौन देवरवा ! साँवरो सो प्रीतम गौर देवरवा
‘तुलसिदास’ प्रभु आस चरन की मेरो मन हर लियो जानकी रमणवा

Man Pachite Hai Avsar Bite

नश्वर माया
मन पछितै है अवसर बीते
दुरलभ देह पाइ हरिपद भजु, करम, वचन अरु हीते
सहसबाहु, दसवदन आदि नृप, बचे न काल बलीते
हम-हम करि धन-धाम सँवारे, अंत चले उठि रीते
सुत-बनितादि जानि स्वारथ रत, न करू नेह सबही ते
अंतहुँ तोहिं तजैंगे पामर! तू न तजै अब ही ते
अब नाथहिं अनुरागु, जागु जड़, त्यागु दुरासा जी ते
बुझै न काम-अगिनि ‘तुलसी’ कहुँ, विषय-भोग बहु घीते

Utrai Le Lo Kewat Ji

केवट का प्रेम (राजस्थानी)
उतराई ले लो केवटजी, थाँरी नाव की
चरण पकड़ यूँ केवट बोल्यो, सुणो राम रघुराई
थाँरी म्हारी जात न न्यारी, ल्यूँ कइयाँ उतराई
धोबी सूँ धोबी ना लेवे, कपड़ो लेत धुलाई
नाई सूँ नाई ना लेवे, बालाँ की कतराई
थे केवट हो भवसागर का, म्हारे नदी तलाई
जब मैं आऊँ घाट आपरे, दीज्यों पार लगाई
राम लखन सीता के मन में, केवट प्रीति समाई
वर दीन्हो भगती को प्रभुजी, आगे लई विदाई 

Ram Nam Ke Do Akshar

राम नाम महिमा
राम नाम के दो अक्षर, पापों का, सुनिश्चित शमन करें
विश्वास और श्रद्धापूर्वक, जपले भवनिधि से पार करें
हो कामकाज चलते बैठे, बस राम नाम उच्चारण हो
भोगे न यातना यम की वह और परम शान्तिमय जीवन हो
दो अक्षर हैं ये मन्त्रराज, जो जपे कार्य सब सफल करे
देवता लोग, सब साधु संत, श्री राम ही का गुणगान करें 

Kaho Tumh Binu Grah Mero Kon Kaj

अनुरोध
कहौ तुम्ह बिनु गृह मेरो कौन काज ?
विपिन कोटि सुरपुर समान मोको, जो प्रिय परिहर् यो राज
वलकल विमल दुकूल मनोहर, कंदमूल – फल अमिय अनाज
प्रभु पद कमल विलोकहुँ छिन छिन इहितें, अधिक कहा सुख साज
हो रहौ भवन भोग लोलुप ह्वै, पति कानन कियो मुनि को साज
‘तुलसिदास’ ऐसे विरह वचन सुनि, कठिन हियो बिहरो न आज

Meri Yah Abhilash Vidhata

अभिलाषा
मेरी यह अभिलाष विधाता
कब पुरवै सखि सानुकूल ह्वैं हरि सेवक सुख दाता
सीता सहित कुसल कौसलपुरआय रहैं सुत दोऊ
श्रवन-सुधा सम वचन सखी कब, आइ कहैगो कोऊ
जनक सुता कब सासु कहैं मोहि, राम लखन कहैं मैया
कबहुँ मुदित मन अजर चलहिंगे, स्याम गौर दोउ भैया
‘तुलसिदास’ यह भाँति मनोरथ करत प्रीति अति बाढ़ी
थकित भई उर आनि राम छबि मनहु चित्र लखि काढ़ी