Chit Chura Liya Is Chitwan Ne

मोहन की मोहिनी
चित्त चुरा लिया इस चितवन ने
आनंद न समाये उर माहि, सखि अटक गया मनमोहन में
यशुमति के आंगन खेल रहा, मैं मुग्ध हुई उसकी छबि पर
मैं भूल गई घर बार सभी, जादू छाया उसका मुझ पर
कानों में कुण्डल को पहने, सखि चमक गाल पर झलक रही
आभास हुआ मुझको ऐसा, चपला मेघों में चमक रही
कान्हा के रोग, दोष, संकट, होए विनष्ट उसके सारे
सद्गुण सौभाग्य हमारे जो, सम्पूर्ण उसी पर हम वारें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *