Meri Shudhi Lijo He Brajraj

शरणागति
मेरी सुधि लीजौ हे ब्रजराज
और नहीं जग में कोउ मेरौ, तुमहिं सुधारो काज
गनिका, गीध, अजामिल तारे, सबरी और गजराज
‘सूर’ पतित पावन करि कीजै, बाहँ गहे की लाज

Leave a Reply

Your email address will not be published.