Pragati Nagari Rup Nidhan

श्री राधा प्राकट्य
प्रगटी नागरि रूप-निधान
निरख निरख सब कहे परस्पर, नहिं त्रिभुवन में आन
कृष्ण-प्रिया का रूप अद्वितीय, विधि शिव करे बखान
उपमा कहि कहि कवि सब हारे, कोटि कोटि रति-खान
‘कुंभनदास’ लाल गिरधर की, जोरी सहज समान

Leave a Reply

Your email address will not be published.