Ujjwal Aarti Mangal Kari

युगल किशोर आरती
उज्ज्वल आरती मंगलकारी, युगल स्वरूप छटा मनहारी
मेघवर्ण श्री कृष्ण मुरारी, विजयन्ती माला धुर धारी
तिलक चारु अलकें घुँघरारी, पीताम्बर की शोभा-भारी
कनक-लता श्री राधा प्यारी, सुघड़ शरीर सुरंगी सारी
मुक्ता-माल करधनी न्यारी, स्वर्ण-चंद्रिका भी रुचिकारी
राधा मोहन कुंज बिहारी, वृन्दावन यमुना-तट चारी
तन-मन या छबि ऊपर वारी, भवनिधि पार करो गिरिधारी  

Leave a Reply

Your email address will not be published.