Sajanwa Nainan Mere Tumhari Aur

हरि दर्शन
सजनवा नैनन मेरे तुमरी ओर
विरह कमण्डल हाथ लिये हैं, वैरागी दो नैन
दरस लालसा लाभ मिले तो, छके रहे दिन रैन
विरह भुजंगम डस गया तन को, मन्तर माने न सीख
फिर-फिर माँगत ‘कबीर’ है, तुम दरशन की भीख

Leave a Reply

Your email address will not be published.