Ho Ji Hari Kit Gaye Neha Lagay

विरह व्यथा
हो जी हरि!कित गए नेहा लगाय
नेह लगाय मेरो मन हर लियो, रस-भरी टेर सुनाय
मेरे मन में ऐसी आवै, प्राण तजूँ विष खाय
छाँड़ि गए बिसवासघात करि, नेह की नाव चढ़ाय
‘मीराँ’ के प्रभु कब रे मिलोगे, रहे मधुपुरी छाय

Leave a Reply

Your email address will not be published.